पाकिस्तान: सरकार के खिलाफ हिंसक प्रदर्शन, एक मरा,170 घायल

नई दिल्ली, 25 नवम्बर। पाकिस्तान में राजधानी इस्लामाबाद की ओर जाने वाले राजमार्ग की घेराबंदी कर प्रदर्शन कर रहे प्रदर्शनकारियों को हटाने के लिये पुलिस और अर्धसैनिक बलों के अभियान शुरू करने के बाद हुई झड़पों में शनिवार को सुरक्षा बल सहित 170 से अधिक लोग घायल हो गये और एक व्यक्ति की मौत हो गई। पाकिस्तान के गृहमंत्री एहसान इकबाल के खिलाफ शुक्रवार को इस्लामाबाद हाईकोर्ट (आईएचसी) ने अदालत की अवमानना का नोटिस जारी किया था जिसके बाद यह अभियान शुरू किया गया। यह नोटिस अदालत के, सड़क खाली कराने से संबद्ध आदेश को लागू करने में नाकाम रहने के बाद जारी किया गया। तहरीक-ए-खत्म-ए-नबूवत, तहरीक-ए-लबैक या रसूल अल्लाह (टीएलवाईआर) और सुन्नी तहरीक पाकिस्तान (एसटी) के करीब 2,000 कार्यकर्ताओं ने दो सप्ताह से अधिक समय से इस्लामाबाद एक्सप्रेसवे और मीर रोड की घेराबंदी कर रखी थी। यह सड़क इस्लामाबाद को इसके एकमात्र हवाई अडडे और सेना के गढ़ रावलपिंडी को जोड़ती है। प्रदर्शनकारी खत्म-ए-नबूवत या सितंबर में पारित चुनाव अधिनियम 2017 में बदलावों को लेकर कानून मंत्री जाहिद हमीद के इस्तीफे की मांग कर रहे थे। घायलों को इस्लामाबाद और रावलपिंडी के अस्पतालों में भर्ती कराया गया है। इस्लामाबाद सिटी मजिस्ट्रेट ने शुक्रवार को प्रदर्शनकारियों को आधी रात तक वहां से हटने या नतीजा भुगतने की चेतावनी जारी की थी। टीवी फुटेज में पुलिस प्रदर्शनकारियों पर आंसू गैस के गोले छोड़ती और सुरक्षाकर्मी बल प्रयोग करते दिख रहे हैं। इनमें से कई लोगों को गिरफ्तार कर विभिन्न पुलिस थानों में भेजा गया है। प्रदर्शनकारियों के पथराव के चलते कई सुरक्षाकर्मी घायल हो गये।

डिजिटल प्लेटफॉर्म का इस्तेमाल आम लोगों के सशक्तीकरण के लिए-सुषमा

नयी दिल्ली, 25 नवंबर। विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने कहा है कि सरकार साइबर और डिजिटल मंचों का इस्तेमाल आम लोगों के सशक्तीकरण के वास्ते करने के लिए प्रतिबद्ध है। श्रीमती स्वराज ने साइबर सुरक्षा पर यहाँ आयोजित दो-दिवसीय वैश्विक सम्मेलन के समापन सत्र में शुक्रवार रात यह बात कही। उन्होंने कहा मोदी सरकार के ‘सबका साथ, सबका विकासÓ की तर्ज पर मैं कहना चाहती हूँ ‘विकास के लिए साइबर, सबके लिए साइबरÓ। सरकार साइबर और डिजिटल मंचों का इस्तेमाल आम लोगों के सशक्तीकरण के लिए करने के लिए प्रतिबद्ध है। उन्होंने कहा कि डिजिटलीकरण और साइबर स्पेस ने आर्थिक विकास के नये आयाम खोले हैं और सूचना के अभूतपूर्व भंडार तक लोगों को पहुंच उपलब्ध कराई है। इसने लोगों के संवाद के तौर-तरीके को भी पूरी तरह बदल दिया है, लेकिन इसके साथ ही इसने ऐसी चुनौतियाँ भी पेश की हैं, जिनके लिए कोई बना -बनाया समाधान नहीं है। विदेश मंत्री ने कहा कि वैश्विक समुदाय अब साइबर स्पेस से जुड़े खतरों के प्रति भी सजग हो गया है। इनसे निपटने के लिए एकजुट होकर काम करने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि आतंकवादी संगठन भी नापाक साइबर साधनों का उपयोग अपने गलत उद्देश्यों के लिए कर रहे हैं।

श्रीमद भागवद्गीता नाम महिला सशक्तीकरण का प्रतीक -राष्ट्रपति

कुरूक्षेत्र 25 नवम्बर। राष्ट्रपति रामनाथ कोविन्द ने महिला सशक्तीकरण का एक नया पहलू सामने रखते हुए आज कहा कि इसकी शुरूआत महाभारत काल में ही हो गयी थी जब महाकवि वेदव्यास ने इस महाकाव्य के सबसे महत्वपूर्ण खंड के लिए स्त्रीलिंग का चयन कर इसे ‘श्रीमद् भागवदगीताÓ का नाम दिया। श्री कोविंद ने यहां अंतर्राष्ट्रीय गीता महोत्सव का उदघाटन करने के बाद कहा कि महान शब्दशिल्पी वेद व्यास ने संभवत मातृ शक्ति की गरिमा को मान्यता देने की नीयत से ही महाभारत के महत्वपूर्ण खंड के लिए स्त्रीलिंग का चयन कर इसे श्रीमद भागवदगीता नाम दिया था। उन्होंने कहा कि आज इसे महिला सशक्तीकरण कहा जा रहा है। उन्होंने कहा कि हरियाणा सरकार ने राज्य में स्त्री शक्ति को बढ़ावा देने के लिए कई कदम उठाए हैं और बेटी बचाओ बेटी पढाओ अभियान की शुरूआत के बाद 1000 लड़कों की तुलना में लड़कियों का अनुपात 830 से बढकर 937 पहुंच गया है।