मुंबई में फुटओवर ब्रिज पर भगदड़ से 22 लोगों की मौत…

मुंबई 29 सितम्बर। सुबह भारी वर्षा के बीच मुंबई में एल्फिंस्टन रोड और परेल उपनगरीय रेलवे स्टेशनों को जोडऩे वाले फुटओवर ब्रिज पर आज मची भगदड़ में कम से कम 22 लोग मारे गये हैं जबकि 30 से ज्यादा लोग घायल हुए हैं। पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि यह हादसा सुबह करीब दस बजकर चालीस मिनट पर हुआ। उस वक्त बारिश हो रही थी और फुटओवर ब्रिज पर खासी भीड़ थी। सोशल मीडिया पर तमाम तस्वीरें चल रही हैं जिनमें लोग सीढिय़ों, और दशकों पुराने इस संकरे पुल पर फंसे हुए दिख रहे हैं। हादसे के कई वीडियो भी हैं जिनमें लोग अपनी जान बचाने का हर जतन कर रहे हैं। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, उपराष्ट्रपति एम. वेंकैया नायडू, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी सहित सभी दलों के नेताओं और अन्य क्षेत्रों के लोगों ने हादसे में मारे गए लोगों के प्रति संवेदनाएं व्यक्त की हैं। रेलवे सुरक्षा बल (आरपीएफ) के महानिरीक्षक अतुल श्रीवास्तव ने कहा, ”एल्फिंस्टन स्टेशन के फुट ओवर ब्रिज पर बहुत भीड़ थी और बारिश के कारण वहां फिसलन भी हो गयी थी। इससे अफरा-तफरी मच गयी और परिणाम स्वरूप भगदड़ मच गयी।ÓÓ रेलवे के प्रवक्ता अनिल सक्सेना ने कहा, ”अचानक बारिश होने के कारण, लोग स्टेशन पर इंतजार कर रहे थे। जब बारिश रूकी तो, लोग जल्दी वहां से निकलने लगे जिससे अफरा-तफरी मच गयी।ÓÓ पुलिस को संदेह है कि फुटओवर ब्रिज के पास तेज आवाज के साथ हुए शॉट सर्किट के कारण लोगों में दहशत फैल गयी और वह भागने लगे। इसी कारण भगदड़ मच गयी। बृहन्मुंबई महानगरपालिका के आपदा प्रबंधन प्रकोष्ठ के प्रमुख महेश नारवेकर ने कहा कि मरने वालों में आठ महिलाएं और एक किशोर शामिल हैं। घायलों में से पांच की हालत गंभीर बतायी जा रही है। सुबह ही मुंबई पहुंचे रेल मंत्री पीयूष गोयल ने मुंबई में 100 अतिरिक्त उपनगरीय सेवाओं का उद्घाटन कार्यक्रम रद्द कर दिया और हादसे के उच्चस्तरीय जांच के आदेश दिये हैं। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शोक जताते हुए ट्विटर पर लिखा है, ”मुंबई में मची भगदड़ में जिन लोगों की जान गयी है उनके प्रति मेरी गहरी संवेदनाएं। मेरी प्रार्थनाएं घायलों के साथ हैं।ÓÓ

उन्होंने लिखा है, ”मुंबई में हालात पर लगातार नजर रखी जा रही है। रेल मंत्री गोयल ने मृतकों के परिजन को पांच लाख रुपये, गंभीर रूप से घालयों को एक लाख रुपये और अन्य घायलों को 50,000 रुपये सहायता राशि देने की घोषणा की है। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस ने भगदड़ में मारे गए सभी लोगों के परिजनों को पांच-पांच लाख रुपये की मुआवजा/सहायता राशि देने तथा घायलों का इलाज सरकारी खर्च पर कराने की घोषणा की है। बृहन्मुंबई महानगरपालिका के आपदा नियंत्रण कक्ष के अनुसार, परेल के केईएम अस्पताल में अभी तक 22 शव लाये गये हैं। निकाय के एक अधिकारी ने बताया कि घायलों को अलग-अलग अस्पतालों में भर्ती कराया गया है। रेलवे, पुलिस और दमकल विभाग के अधिकारी मौके पर राहत एवं बचाव कार्य में जुटे हुए हैं। पश्चिम रेलवे के मुख्य जन संपर्क अधिकारी रविन्द्र भाकर ने कहा, ”….ऐसा लगता है कि भारी वर्षा, (यात्रियों की) असंभावित भीड़ एल्फिंस्टन रोड और परेल स्टेशनों को जोडऩे वाली फुटओवर ब्रिज पर एकत्र हो गयी थी।ÓÓ उन्होंने कहा, ”हालांकि, प्लेटफॉर्म की सीढिय़ों पर भीड़ को नियंत्रित करने के लिए सुरक्षा कर्मी तैनात थे, लेकिन बहुत ज्यादा भीड़ के कारण यह दुर्भाग्यपूर्ण हादसा हुआ।ÓÓ भाकर के अनुसार, तकनीकी तौर पर यह ”रेल संबंधीÓÓ हादसा नहीं है, लेकिन पीडि़तों को रेलवे के नियमों के अनुसार सहायता राशि दी जाएगी। रेलवे के एक अधिकारी ने कहा कि भगदड़ के तुरंत बाद पीडि़तों की सहायता के लिए चिकित्सा ट्रेन मौके पर रवाना कर दी गयी थी। रेल मंत्री गोयल ने ट्वीट किया, ”मैंने पश्चिम रेलवे के मुख्य सुरक्षा अधिकारी के नेतृत्व में उच्चस्तरीय जांच के आदेश दिये हैं।ÓÓ
उन्होंने लिखा है, ”अभी मुंबई पहुंचा हूं। एल्फिंस्टन रोड फुटओवर ब्रिज पर मची दुर्भाग्यपूर्ण भगदड़ में मासूम जिंदगियों के जाने से शोक संतप्त हूं।ÓÓ गोयल ने ट्वीट किया है, ”शोक संतप्त परिवारों के प्रति मेरी गहरी संवेदनाएं। मैं घायलों के जल्दी स्वस्थ्य होने की प्रार्थना करता हूं।ÓÓ निवेशकों के साथ बैठकों के लिए सिंगापुर में मौजूद मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस ने ट्वीट किया है, ”मृतकों के निकट परिजनों को पांच लाख रुपये मुआवजे की घोषणा। घायलों के इलाज का सारा खर्च सरकार उठाएगी।ÓÓ उन्होंने लिखा है, ”महाराष्ट्र सरकार और रेल मंत्रालय आवश्यकता पडऩे पर मामले की जांच करवाएगी। कड़ी कार्रवाई की जाएगी।ÓÓ उन्होंने लिखा है, ”मुख्य सचिव और मुंबई के पुलिस आयुक्त से बात की। उन्हें तत्काल अस्पताल पहुंचने और मामले की निगरानी करने तथा सभी को सहायता सुनिश्चित करने को कहा है।ÓÓ पश्चिम रेलवे के महाप्रबंधक ए. के. गुप्ता परेल के केईएम अस्पताल गये और घायलों में से कुछ लोगों से बातचीत की। मुंबई पुलिस ने लोगों से रक्तदान करने की अपील की है। मुंबई पुलिस ने ट्वीट किया है, ”एल्फिंस्टन भगदड़ में घायल हुए लोगों के लिए केईएम अस्पताल में ए नेगेटिव, बी नेगेटिव और एबी नेगेटिव रक्त की जरूरत है। कृपया केईएम के ब्लड बैंक से संपर्क करें।ÓÓ

सपा का राष्ट्रीय अधिवेशन:अखिलेश ने मुलायम को न्यौता दिया…

लखनऊ, 28 सितम्बर। अपने पिता पार्टी संस्थापक मुलायम सिंह यादव का ‘आशीर्वादÓ मिलने के बाद सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने आज उनसे मुलाकात की और उन्हें आगामी पांच अक्तूबर को आगरा में होने वाले सपा के राष्ट्रीय अधिवेशन का न्यौता दिया। सपा प्रवक्ता एवं विधान परिषद सदस्य सुनील सिंह साजन ने बताया कि पार्टी अध्यक्ष अखिलेश अपने पिता मुलायम से मुलाकात करने उनके घर गये और उन्हें पांच अक्तूबर को आगरा में होने वाले सपा के राष्ट्रीय अधिवेशन का निमंत्रण दिया। इसी अधिवेशन में सपा के नये राष्ट्रीय अध्यक्ष का चुनाव होना है। सुनील के मुताबिक मुलायम ने राष्ट्रीय अधिवेशन का निमंत्रण स्वीकार कर लिया है। अखिलेश की मुलायम से मुलाकात कई महीनों बाद हुई है। मालूम हो कि सपा संस्थापक मुलायम ने गत 25 सितम्बर को लखनऊ में आयोजित संवाददाता सम्मेलन में कहा था कि चूंकि अखिलेश उनके पुत्र हैं, लिहाजा उनके साथ उनका आशीर्वाद है, लेकिन उनके कुछ निर्णयों से वह सहमत नहीं हैं। माना जा रहा था कि इस संवाददाता सम्मेलन में मुलायम सपा से अलग होकर कोई नयी पार्टी बनाएंगे लेकिन उन्होंने इससे साफ इनकार कर दिया था। इससे पहले 23 सितंबर को पार्टी के प्रान्तीय अधिवेशन में अखिलेश ने मुलायम का जिक्र करते हुए कहा था कि नेताजी का आशीर्वाद उनके साथ है और वह उनके आंदोलन को ऊंचाइयों तक पहुंचाएंगे। संवाददाता सम्मेलन के दौरान मुलायम के वरिष्ठ सहयोगी पूर्व मंत्री शारदा प्रताप शुक्ल ने उन्हें एक और प्रेस नोट उठाकर दिया था, लेकिन सपा संस्थापक ने उसे नहीं पढ़ा था। मीडिया में लीक हुए उस प्रेस नोट में अलग पार्टी बनाने की बात लिखी थी। ऐन वक्त पर मुलायम के इस रुख को अखिलेश के विरोधी शिवपाल यादव गुट के लिये झटका माना जा रहा है। पूर्व मंत्री शारदा प्रताप शुक्ल ने मुलायम पर अपने बेटे अखिलेश से मिले होने का आरोप लगाया है। मुलायम के साथ मिलकर एक अलग मोर्चा बनाने की ख्वाहिश रखने वाले लोकदल के राष्ट्रीय अध्यक्ष सुनील सिंह ने भी कहा था कि मुलायम ने प्रेस कांफ्रेंस में वह प्रेस नोट नहीं पढ़ा, जो उन्हें पढऩा था। अब वह पांच अक्तूबर को होने वाले सपा के राष्ट्रीय अधिवेशन का इंतजार करेंगे और उसके बाद ही कोई कदम उठाएंगे।
इस बीच, अपने सियासी भविष्य के लिये मुलायम की तरफ आशा भरी नजरों से देख रहे शिवपाल पर अब अपनी अलग राह तय करने का दबाव बढ़ गया है। शिवपाल के एक करीबी का कहना है कि आगामी पांच अक्तूबर को सपा के राष्ट्रीय अधिवेशन के बाद शिवपाल कोई अलग पार्टी बना सकते हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सौभाग्य योजना मार्च 2019 तक रोशन होगा हर गरीब का घर…

नई दिल्ली 25 सितम्बर। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को दिल्ली के दीनदयाल ऊर्जा भवन में ओएनजीसी के एक कार्यक्रम में ‘सौभाग्यÓ योजना का ऐलान किया। सौभाग्य मतलब ‘सहज बिजली हर घर योजनाÓ। इस योजना के तहत जिनका नाम सामाजिक आर्थिक जनगणना में है, ऐसे लोगों को मुफ्त में बिजली कनेक्शन दिया जाएगा। जिनका नाम सामाजिक आर्थिक जनगणना में शामिल नहीं है उन्हें 500 रुपए में बिजली का कनेक्शन दिया जाएगा। ये 500 रुपए 10 किस्तों में जमा कराए जा सकेंगे। इस योजना का स्लोगन है, ‘रोशन होगा हर घर, गांव हो या शहर।Ó इस योजना का लक्ष्य बिहार, यूपी, एमपी, ओडि़शा, राजस्थान, जम्मू कश्मीर और पूर्वोत्तर के राज्यों में हर घर में बिजली पहुंचाने का है। केंद्र सरकार ने इस योजना के तहत 31 मार्च, 2019 तक देश के हर घर में बिजली कनेक्शन पहुंचाने का लक्ष्य रखा है। इस योजना के तहत बिजली कनेक्शन के साथ एक सोलर पैक भी दिया जाएगा। इस सोलर पैक में 5 एलईडी बल्ब, एक बैट्री पॉवर बैंक, एक डीसी पॉवर प्लग और एक डीसी पंखा दिया जाएगा। इस योजना पर कुल 16320 करोड़ रुपए खर्च आएगा। इससे पहले वित्त मंत्री अरुण जेटली ने भाजपा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी में पीएम मोदी के भाषण के बारे में पत्रकारों को बताया। उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में अपने भाषण में प्रधानमंत्री ने कहा कि भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ाई में कोई समझौता नहीं होगा और जो भी भ्रष्ट्राचार में संलिप्त मिलेगा उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने कहा कि सत्ता भोग के लिए नहीं है बल्कि सेवा के लिए। सेवा करने के लिए किसी को भी पीछे नहीं हटना चाहिए। जेटली ने बताया कि प्रधानमंत्री ने राष्ट्रीय कार्यकारणी की बैठक में पार्टी नेताओं और कार्यकर्ताओं को सलाह देते हुए कहा कि बिना जन भागीदारी के कोई योजना सफल नहीं होती। चुनाव का इंतजार नहीं करना चाहिए। वित्तमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री ने अपने संबोधन में दो बार विपक्ष का जिक्र किया और कहा कि विपक्ष को समझ नहीं आ रहा कि अपनी भूमिका का निर्वाह कैसे करें। विपक्ष के लिए सत्ता सिर्फ उपभोग की वस्तु थी। बिना स्पष्ट कारणों के कड़े शब्दों का उपयोग कोई विकल्प नहीं हो सकता। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि देश ने बीजेपी को बहुत दिया है। राज्य में सरकारें और केंद्र में भाजपा की सरकारें हैं। अब हमारी बहुत जिम्मेदारी है। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को बधाई देते हुए उन्होंने कहा कि शौचालय का इज्जतघर नाम रखकर उन्होंने इसे घर की इज्जत का प्रतीक बनाया है।

पार्टी नेताओं और कार्यकर्ताओं को सलाह देते हुए उन्होंने कहा कि बिना जन भागीदारी के कोई योजना सफल नहीं हो सकती। चुनाव तीन साल में होगा या 5 साल में, इसका इंतजार मत करिए, जनता के बीच रहिए। सत्ता सुख के लिए नहीं, बल्कि सेवा के लिए है। केंद्र सरकार की योजनाओं को गिनाते हुए उन्होंने कहा कि उज्जवला योजना हो या मुद्रा योजना इनसे संतुष्टि मिलती है, क्योंकि इससे गरीबों का कल्याण हो रहा है। इससे पहले कार्यकारिणी को संबोधित करते हुए बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने कहा कि पार्टी 2019 के आम चुनाव में जबरदस्त जीत हासिल करेगी। शाह ने केरल और पश्चिम बंगाल में हो रही राजनीतिक हिंसा की भी निंदा की। कार्यकारिणी में डोकलाम मुद्दे पर सरकार के रुख को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को धन्यवाद दिया गया। केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने इसे सरकार की अंतरराष्ट्रीय कूटनीतिक सफलता करार दिया। साथ ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के महत्वाकांक्षी प्रोजेक्ट बुलेट ट्रेन को एक बड़ी उपलब्धि बताया गया। कार्यकारिणी में बीजेपी के 13 मुख्यमंत्रियों, 6 उपमुख्यमंत्रियों, 232 राज्य मंत्री, 1515 विधायक और एमएलसी और संसद की दोनों सदनों के 334 सांसदों ने हिस्सा लिया।