सुषमा :- इराक में भारतीयों की मौत का जब तक सबूत नहीं मिलता, तलाश जारी रहेगी …

नई दिल्ली. इराक में लापता हुए 39 भारतीयों के मुद्दे पर बुधवार को लोकसभा में सुषमा स्वराज ने बयान दिया। उन्होंने कहा – “इराक में लापता भारतीयों के बारे में अभी कोई पुख्ता जानकारी नहीं है। उनके मारे जाने की फाइल तब तक बंद नहीं होगी, जब तक कोई सबूत नहीं मिल जाता। हम उनकी तलाश करते रहेंगे। बिना कोई जानकारी के उनकी मौत को मान लेने का पाप मैं अपने सिर पर नहीं ले सकती।” उन्होंने कहा कि मैंने इस मुद्दे पर कभी गुमराह करने की कोशिश नहीं की है। बता दें कि तीन साल पहले इराक के मोसुल से इन भारतीयों को आतंकी संगठन आईएसआईएस ने किडनैप किया था। मोसुल को आईएसआईएस के कब्जे से छुड़ाया जा चुका है। भारत को उम्मीद है कि अब इनका पता लगाया जा सकता है। इससे पहले विपक्ष आरोप लगाता रहा है कि सुषमा ने इस मुद्दे पर देश को गुमराह किया।
सुषमा ने कहा- न हमें लाशें मिलीं, न हमें खून के धब्बे मिले..
– सुषमा स्वराज ने कहा- “न हमें लाशें मिलीं, न हमें खून के धब्बे मिले। 24 नवंबर, 2014 को मैं सदन में आई। ज्योतिरादित्य सिंधिया ने तब ये विषय उठाया। उन्होंने नोटिस नहीं दिया था लेकिन मैंने बोलने को कहा।”
– “एक व्यक्ति कह रहा है कि वो मार दिए गए। हमारा सोर्स कह रहा है कि वो जिंदा हैं। तो मुझे क्या करना चाहिए। उन्हें मृत मानकर तलाश छोड़ देनी चाहिए या उनकी तलाश जारी रखनी चाहिए। मैं उन लोगों से सीधे संपर्क में नहीं हूं। मेरे पास उनके जिंदा होने के सबूत नहीं है लेकिन मेरे पास उनके मारे जाने के सबूत भी नहीं हैं। अगर हरजीत की बात को सच मानकर मैं सदन से कहना चाहती हूं कि मैं दूसरे रास्ते पर जाऊंगी।”
– “मैं सदन के साथ शेयर करना चाहती हूं कि हमें तुर्की की मदद मिल सकती है। तलाश करने वाले देशों से खुद प्रधानमंत्रीजी ने भी बात की है। हम लोग ये सोचकर आगे बढ़ रहे थे कि हमें उनके जिंदा या मृत होने का पक्का सबूत मिल जाए।”
– “लापता लोगों में 4 कैटेगरी के लोग आते हैं- प्रिजनर्स ऑफ वॉर, मिसिंग, किल्ड और बिलीव्ड टू बी किल्ड। जब तक उनके मारे जाने के सबूत नहीं मिल जाते, उनकी फाइल बंद नहीं होगी। ऐसा न करना पाप होगा। मैंने कभी नहीं कहा कि वो जेल में हैं।”
मुझे आज तक कोई सबूत नहीं मिला है
– सुषमा ने कहा, “इराक के अफसरों ने बताया था कि 2016 में वो लोग बदरूस जेल में जरूर थे। उसके बाद उनसे संपर्क नहीं हो सका। इराक के विदेश मंत्री कह चुके हैं कि उनके पास भारत के लोगों के जिंदा या मृत होने के सबूत नहीं हैं। हम उनकी जांच करेंगे। मुझे आज तक कोई सबूत नहीं मिला है। उन्होंने कहा है कि वो अब तभी बताएंगे, जब उनके पास कोई सबूत होगा।”
– “अगर मैं मरा हुआ घोषित कर दूं तो मुझे बहुत आसानी होगी। उनके परिजन मेरे पास कुछ पूछने नहीं आएंगे।”
सुषमा ने दो किस्से भी सुनाए
– सुषमा ने दो किस्से बताए, “1971 में एक जवान के शहीद होने के बात सामने आई। रेडियो पर भी उनके मारे जाने की सूचना आई। बाद में पाक की जेल से छूटकर आए एक शख्स ने उनके जिंदा होने की बात कही। जवान के परिवारवाले अब उनके वापस लाने की बात कह रह रहे हैं। पाक कहता है कि वहां की जेल में वो जवान नहीं है। 21 साल पहले 7 साल का नानक सिंह नाम का बच्चा सीमा पार कर गया था। उसके परिवार वाले कहते हैं कि उसे वापस लाओ, वो पाकिस्तान की जेल में है। पाक कहता है कि हमारे यहां इस नाम का कोई आदमी जेल में नहीं है।”
विपक्ष ने पहले सुषमा को बोलने नहीं दिया
सुषमा स्वराज इराक में लापता हुए 39 भारतीयों के मुद्दे पर बुधवार को लोकसभा में बयान देना चाहती थीं, लेकिन विपक्ष के हंगामे के चलते वे ऐसा नहीं कर पाई थीं।
– सुषमा ने कहा- ”मैं संजीदगी के साथ जवाब देना चाहती हूं। कृपया मुझे बोलने दें। मैं हंगामे में नहीं बोल सकती। मैं 20 मिनट में अपनी बात खत्म कर दूंगी। पूरा देश इस बारे में जानना चाहता है।” इस पर स्पीकर सुमित्रा महाजन ने कहा- ‘इन लोगों (विपक्ष) को संजीदगी मैं तो नहीं सीखा सकती।’ हंगामा बढ़ने पर स्पीकर ने कहा कि सुषमाजी कल भी बयान देना चाहती थीं। लेकिन आप लोगों ने ही सदन नहीं चलने दिया।
– विपक्ष के हंगामे के बीच स्पीकर ने कहा- “आप एक ही बात बताएं कि मोसुल में भारतीयों की मौजूदगी के बारे में हम सभी को चिंता है। खड़गेजी मैं आपसे सुनना चाहती हूं कि आप इस बारे में जानना चाहते हैं या नहीं।”
– इस पर लोकसभा में कांग्रेस के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा कि हमें इस विषय पर भी चिंता है। लेकिन हम किसानों और लिंचिंग के मुद्दे पर बोलना चाहते हैं। मॉब किलिंग को लेकर देश ही नहीं विदेशों में भी आलोचना हो रही है।
– इस पर स्पीकर ने उन्हें दूसरे विषय पर बोलने की इजाजत नहीं दी। उन्होंने कहा कि मैंने कभी आप लोगों को बोलने से नहीं रोका। लेकिन अभी पूरा सदन इराक के बारे में सुनना चाहता है। सुषमाजी को बयान देने दीजिए। कृपया चेयर के साथ कोऑपरेट करें। वेल में क्यों आते हो।
– सुषमा ने भी कहा कि मैं संजीदगी के साथ जवाब देना चाहती हूं। कृपया मुझे बोलने दें।
– इस पर स्पीकर ने कहा- इन लोगों (विपक्ष) को संजीदगी मैं तो नहीं सीखा सकती।
– इसके बाद स्पीकर ने अरुण जेटली को कुछ दस्तावेज लोकसभा में पेश करने को कहे।
– बता दें कि इराक के फॉरेन मिनिस्टर इब्राहिम अल जाफरी ने बताया था- “हमें बिल्कुल भी इस बात की जानकारी नहीं है कि लापता हुए भारतीय जिंदा है या मारे गए।” जाफरी चार दिन के ऑफिशियल विजिट पर नई दिल्ली आए थे।
कैसे लापता हुए थे 39 भारतीय?
– इराक में लापता हुए भारतीयों में ज्यादातर पंजाब के रहने वाले हैं। ये सभी मोसुल और इसके करीबी शहरों में मजदूरी के लिए गए थे।
– 2014 में इन्हें आईएस ने किडनैप किया। आरोप है कि इन्हें मोसुल के किसी गांव की जेल में रखा और वहां उनसे मजदूरी कराई गई। इसके बाद से इन भारतीयों के बारे में कभी कुछ पुख्ता तौर पर सामने नहीं आया। सरकार इनका पता लगाने की कोशिश कर रही है।
इराक के एम्बेसेडर के बयान के बाद विवाद
– 20 जुलाई को भारत में इराक के एम्बेसडर फाखरी-अल-इस्सा ने कहा था, ”इस्लामिक स्टेट (IS) के द्वारा अगवा किए 39 भारतीयों के बारे में कोई जानकारी नहीं है। मैं इस बारे में कुछ नहीं कहना चाहता। कभी-कभी कोई खबर नहीं होना ही, अच्छी खबर होता है। हो सकता है कि वो सभी बादुश जेल में हों।”
– इसके बाद कांग्रेस ने आरोप लगाया था कि स्वराज ने इस मुद्दे पर देश को गुमराह किया। 19 जुलाई को कांग्रेस सांसद प्रताप सिंह बाजवा ने राज्यसभा में कहा, ”मंत्री ने देश को यह कहकर गुमराह किया कि 39 भारतीय बादुश की जेल में बंद हैं, जबकि हकीकत यह है कि उस जेल को आईएसआईएस ने तबाह कर दिया है।”
– इसके पहले ट्वीट में उन्होंने कहा था- ”मैं देश से झूठ बोलने और 39 परिवारों की भावनाओं से खिलवाड़ करने के लिए विदेश मंत्री के खिलाफ विशेषाधिकार प्रस्ताव लाने के बारे में सोच रहा हूं।”
सरकार के दावे पर अपोजिशन को यकीन नहीं
– इराक के पीएम हैदर अल अबादी ने 9 जुलाई को एलान किया था कि 9 महीने चली जंग के बाद मोसुल को आईएस के कब्जे से छुड़ा लिया गया है। अबादी खुद मोसुल पहुंचे थे और आर्मी कमांडर्स की मौजूदगी में उन्होंने ये घोषणा की थी।
– अबादी के इस एलान के बाद सुषमा ने अपने जूनियर मिनिस्टर वीके. सिंह को इराक के इरबिल भेजा था। सिंह से कहा गया था कि वो इरबिल पहुंचकर 39 लापता भारतीयों के बारे में जानकारी हासिल करें।
– सरकार ने कहा कि लापता भारतीय मोसुल से कुछ दूरी पर बादुश गांव की जेल में हो सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.