सदन में विस्फोटक मिलना बड़ी साजिश,एनआईए से जांच होगी: योगी…

लखनऊ, 14 जुलाई। उत्तर प्रदेश विधानसभा में सुरक्षा की भारी चूक सामने आयी है। विधानसभा में खतरनाक प्लास्टिक विस्फोटक पाया गया है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा सदन को इसकी सूचना दिये जाने के बाद, सदन ने आम सहमति से मामले की एनआईए जांच की सिफारिश की। सदन की बैठक सुबह शुरू होते ही मुख्यमंत्री ने सूचित किया कि नेता प्रतिपक्ष राम गोविन्द चौधरी की सीट के करीब एक कागज में सफेद पाउडर लिपटा मिला। योगी ने इससे पहले सुरक्षा को लेकर एक आपात बैठक भी की थी। मुख्यमंत्री ने बताया कि विस्फोटक सफाईकर्मियों को 12 जुलाई को मिला था। उन्होंने बताया कि पाउडर को फॉरेंसिक जांच के लिए भेजा गया। यह खतरनाक प्लास्टिक विस्फोटक पीईटीएन यानी पेंटाएरीथ्रिटोल टेट्रा नाइट्रेट निकला। डॉग स्क्वायड भी विस्फोटक नहीं पहचान पाया। योगी ने कहा कि शुरुआत में हमने समझा कि यह कोई पाउडर या रसायन है लेकिन एफएसएल (फोरेसिंक साइंस लैब) ने बताया कि यह पीईटीएन है, जो उच्च गुणवत्ता का हेक्सोजीन और प्लास्टिक विस्फोटक है। मुख्यमंत्री ने कहा कि विस्फोटक की मात्रा 150 ग्राम निकली लेकिन जैसा कि विशेषज्ञों ने बताया कि इस विस्फोटक की 500 ग्राम की मात्रा सदन को उड़ाने के लिए काफी है। उन्होंने कहा कि विस्फोटक बेंच के नीचे पाया गया जो नेता प्रतिपक्ष के बैठने की जगह से तीसरी बेंच है। योगी ने कहा कि सदन की सुरक्षा हमारी चिन्ता का विषय है। यह खतरनाक आतंकी साजिश का हिस्सा है और इसका पर्दाफाश होना चाहिए। राज्य सरकार चाहती है कि मामले की जांच एनआईए यानी राष्ट्रीय जांच एजेंसी करे। सरकार यह भी चाहती है कि विधान भवन में कार्य करने वाले कर्मचारियों और अधिकारियों का पुलिस सत्यापन कराया जाए। उन्होंने कहा कि सुरक्षा को लेकर कोई समझौता नहीं होना चाहिए। मुख्यमंत्री ने कहा कि यह सुनिश्चित करने के लिए संयुक्त प्रयास करने की आवश्यकता है।

विस्फोटक मिलने की रिपोर्ट दर्ज,सीसीटीवी फुटेज खंगालने में जुटी एटीएस

लखनऊ, 14 जुलाई। उत्तर प्रदेश विधानसभा में मिले विस्फोटक की जांच में जुटी राज्य पुलिस के आतंकवाद निरोधक दस्ते (एटीएस) ने सीसीटीवी फुटेज खंगालना शुरु कर दिया है। सूबे के पुलिस महानिरीक्षक(कानून-व्यवस्था) राम अवतार शर्मा तथा एटीएस महानिरीक्षक असीम अरुण ने संयुक्त संवाददाता सम्मेलन में कहा कि एटीएस ने जांच शुरु कर दी है। विस्फोटक के मिलने के स्थान को चिन्हित कर लिया गया है। विस्फोटक एक विधायक की सीट के कुशन के नीचे मिला है। श्री शर्मा ने कहा कि अभी एटीएस ने जांच शुरु की है लेकिन राष्ट्रीय जांच एजेंसी(एनएसए) से भी जांच प्रस्तावित है। उन्होंने बताया कि मार्शल मनीश चन्द्र राय की तहरीर पर हजरतगंज थाने में अज्ञात लोगों के खिलाफ मामला दर्ज कराया गया है।

सदन में विस्फोटक मिलना चिंतनीय,उच्चस्तरीय हो जांच- अखिलेश

लखनऊ, 14 जुलाई। समाजवादी पार्टी(सपा) अध्यक्ष और उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने विधानसभा के अन्दर विस्फोटक मिलने को चिंतनीय बताते हुए इसकी उच्चस्तरीय जांच की मांग की है। श्री यादव ने ट्वीट कर कहा है कि सदन में विस्फोटक कैसे पहुंचा,कहां से पहुंचा,किसने पहुंचाया,इसकी जांच होनी चाहिए। जांच के बाद दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जानी चाहिए। उन्होंने कहा कि जांच में उनकी पार्टी पूरा सहयोग देगी।

विधानसभा उड़ाने की धमकी देने वाला युवक रडार पर

देवरिया, 14 जुलाई। उत्तर प्रदेश विधानसभा में मिले विस्फोटक सामग्री मिलने के बाद विभानभवन को उडुाने की धमकी देने के आरोप में कल देवरिया से गिरफ्तार किया गया युवक फरहान अहमद जांच एजेंसियों के रडार पर है। सूत्रों के अनुसार छह जुलाई को लखनऊ जोन के अपर पुलिस महानिदेशक अभय कुमार प्रसाद के मोबाइल पर फोन करके 15 अगस्त को विभानसभा को बम से उड़ाने की धमकी दी थी। इस पर लखनऊ पुलिस ने गोपनीय तरीके से जांच कराने के बाद देवरिया के रामपुर कारखाना क्षेत्र से फरहान अहमद नामक युवक को कल गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया था। उन्होंने बताया कि राज्य विधानसभा के भीतर विस्फोटक मिलने के बाद सुरक्षा एजेंसियां जांच में जुट गई हैं। कयास लगाये जा रहे हैं कि जांच एजेंसियों की टीम देवरिया भी आकर गिरफ्तार युवक फरहान अहमद से पूछताछ कर सकती है कि उसकी साठगांठ विधानसभा में विस्फोटक रखने वाले लोगों से तो नहीं है।

 

www.bijnortimes.in

www.dainikchingari.com

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *